सुविधाएं व सेवाएं


संस्थान के पास इस क्षेत्र में आर. एंड डी. गतिविधियों के संचालन के लिए आधुनिक प्रयोगशालाएं एवं सुविधाएं हैं:
क. प्रयोगशाला:संस्थान में चार विशिष्टी एवं परिष्कृत प्रयोगशालाएं हैं।
1. पारिस्थितिक प्रयोगशाला :

पारिस्थितिक एवं जैव विविधता संरक्षण प्रभाग में मुख्य: वैज्ञानिक उपकरण इस प्रकार है जिसमें सी.एन.एच. एवं एस. एलीमेंटर, केली प्लस नाइट्रोजन एस्टीमेशन सिस्टम, अल्ट्रावायलेट स्पेक्ट्रोफोटोमीटर, फ्लेम फोटोमीटर, पीएच मीटर, इलैक्ट्रिकल कंडकटिव्टी मीटर। यह उपकरण मृदा व पौधों में कार्बन, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटाशियम इत्यादि के एस्टीमेशन हेतु प्रयोग किए जाते हैं। मृदा व पौध नमूनों के प्रयोगशाला विश्लेषण की सुविधाएं संस्थान के अतिरिक्त बाहरी संस्थाओं के लिए भी उपलब्ध है।

कृषि वानिकी की लोकप्रियता बढाने व अन्य विस्तार सम्न्धित गतिविधियाँ भी इसके अधिदेश में शामिल है ।

मिलीपोर ऑटोमैटिक नाइट्रोजन एस्टिमेटिंग सिस्टम
वेरीओ माइक्रोक्यूब एन एच स एस एनलाईजर मृदा परीक्षण

क्रम सं. विवरण दर (रू.)
1 मृदा नमूने का फिजि़्ायोकेमिकल विष्लेषण 300.00/sample
2 पौध नमूने का बायोकैमिकल विष्लेषण 300.00/sample
3 पौधों की पहचान 25.00/plant

II. वन संरक्षण प्रयोगशाला:

वन संरक्षण प्रयोगशाला में मुख्य उपकरण इस प्रकार है: माइक्रोस्कोप निकॉन ई 400, पीसीआर (बैंच टॉप), एलेक्ट्रोप्फोरेसिस (बैंच टॉप), जेल डॉक (प्रोटीन सैंपल), माइक्रोस्कोप (LMI3003276A), लीड्ज माइक्रा एक्स ज़ेड-150Wa-कोल्ड लाईट ईलयुमिनेटर, इनसेक्ट एक्टिविटी रिकॉर्डर, लेमिनर फ़्लो, बीओड़ी इनक्यूबेटर, इनोक्यूलेशन चेम्बर, औटोक्लेव, इनसेक्ट / बोरर चेम्बर आदि विद्यमान है।


III.कृषिवानिकी एवं गैरकाष्ठ वनोत्पाद:

इस प्रयोगशाला में मुख्य उपकरण पीएमआर पोरोमीटर, सोक्स्हलेट अप्रेटस विद हीटीन्ग सिस्टम, रेलास्कोप, सेंटरीफ़्यूज, म्फ़्ल फरनेस, क्लीनोमीटर, सॉइल रेसपीरैशन चेम्बर, सॉइल टेम्परेचर प्रोब, लक्स मीटर, सॉइल मोसचर मीटर, बल्क डेंसिटी कोर, एल्टीमीटर इत्यादि है।


IV. बीज तकनीक प्रयोगशाला

बीज तकनीक प्रयोगशाला में मुख्य उपकरण: थेरमोंहाईग्रोमीटर, डिजिटल सीड मोसचर मीटर, हॉट एयर ओवेन, सीलिंग मशीन, रेफ्रिजरेटर, ईलेकट्रेक्ट्रीकल कनड़क्टिविटी मीटर, पीएच मीटर, ईलेकट्रोनिक बैलेन्स, सीड ग्रेडर, स्पेसिफिक ग्राविटि सेपरेटर विद सर्ज़ बीन एंड एलिवेटर, सीड जेरमीनेटर,सीड ड्राइर, सीड ब्लोर, एलेक्ट्रोफोरेसिस अससेंबली, पावर सप्लाइ, इन्फ्रारेडथेरमों मीटर , फ्यूमहूड़ डिओनिजर, मेगनेटिक स्टीर्र, वॉटर रीसरकूलेटर, एक्सट्रेकसन प्लेट, सोक्स्लेट अप्रेटस, प्रैशर चेम्बर, यु वी वीस स्पेक्ट्रोफोटोमीटर, मल्टी चेम्बर कैबिनेट, कूलीग कैबिनेट, पोर्टबल फोटोसीन्थेसिस सिस्टम, प्लांट कनोपी एनालाइजर इत्यादि हैं।


ख. वनस्पति संग्रहालय ;

वनस्पति संग्रहालय में लगभग 7400 पौध प्रतिदर्श शीटें मानक प्रक्रिया अपनाकर तैयार की गई हैं। पौध प्रतिदर्षों में 136 परिवारों से संबंधित लगभग 1085 प्रजातियां शामिल हैं। यह वनस्पति संग्रहालय अन्य अनुसंधान संस्थानों के विद्यार्थियों अनुसंधान छात्रों व अनुसंधान-कर्ताओं को वनस्पति प्रजाति पहचान सुविधा उपलब्ध करवा रहा है।


ग. पुस्तकालय

संस्थान का पुस्तकालय वानिकी से संबंधित पुस्तकें जर्नल व अन्य प्रासंगिक विषयों का सर्वोतम संकलन है। संकलन का विवरण नीचे दिया गया है:-

क्रम सं. मद संख्या
1 पुस्तकें 3297
2 जर्नल/पत्रिकाएं     210
3 आबद्ध पत्रिकाएं     523
4 गैर-आबद्ध पत्रिकाएं 48
5 वानिकी अनुसंधान पर वीडियो कैसेट्स /सीडी 41
6 प्रतिबंधित मानचित्र 58
7 गैर-प्रतिबंधित मानचित्रap 59
8 मानचित्र कॅटालाग 02
9 अन्य मानचित्र      12
10 थीसिस 11

हिमालय वन अनुसंधान संस्थान में पुस्तकालय से शुल्क आधार पर निम्नलिखित सेवाएं उपलब्ध करवाई जाती हैं:-

1. संदर्भ सेवाएं
2. निर्देष सेवाएं
3. प्रचलित सतर्कता सेवाएं
4. रेप्रोग्राफिक सेवाएं
5. कैब ट्री सीडी सेवाएं


घ. वीडियो कांफ्रेसिंग:

हिमालय वन अनुसंधान संस्थान में भारतीय वानिकी अनुसंधान संस्थान एवं शिक्षा परिषद तथा उसके संस्थानों व अन्य संगठनों के बीच अनुसंधान, प्रशासनिक व प्रबंधन उद्देश्यों के लिए वीडियो कांफ्रेसिंग सुविधाएं उपलब्ध हैं। वीडियो कांफ्रेस कक्ष पूरी तरह से सुसज्जित है और इसका राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडलों के साथ विभिन्न पारस्परिक बैठकों के लिए निरन्तर प्रयोग हो रहा है। यह कक्ष आराम से 15 प्रतिभागी समायोजित करता है।


ड. कांफ्रेंस सुविधाएं:

सम्मेलन, सेमीनार, कार्यशालाएं, बैठकें व अन्य संस्थागत अथवा बाह्य गतिविधियों के आयोजन के लिए संस्थान में एक भरपूर क्रियाशील और सुसजिज्त सम्मेलन कक्ष विकसित किया गया है। यह साज़-सामान से भरपूर सुविधाओं के साथ लगभग 70 प्रतिभागियों को आराम से समायोजित कर सकता है। अन्य संगठन / विभाग भी सक्षम प्राधिकारी की पूर्वानुमति से तथा रू. 6000/- प्रतिदिन के भुगतान पर इस सुविधा का उपयोग कर सकते हैं।


च. एम.डी चतुर्वेदी प्रशिक्षण परिसर एवं विवेचन केन्द्र:

संस्थान में एक बहु-उद्देशीय प्रशिक्षण केन्द्र भी है। यह साज सामान से भरपूर सुविधाओं को साथ-साथ लगभग 30 प्रतिभागियों को आराम से समायोजित कर सकता है। अन्य संगठन/ विभाग भी सक्षम प्राधिकारी की पूर्वानुमति से तथा रू. 3500/- प्रतिदिन के भुगतान पर इस सुविधा का ऊपक्षेन्न कर सकते हैं। (अपवाद: राज्य वन विभाग, हिमाचल प्रदेश सरकार)

छ. प्रायोगिक अनुसंधान पौधशालाएं एवं केंद्र:  

नवीन जानकारी


हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान,  शिमला द्वारा आयोजित  अतीस, बन ककड़ी, चोरा और अन्य महत्वपूर्ण समशीतोष्ण औषधीय पौधों की खेती पर  दिनांक  22 अगस्त, 2017 को  भदरवाहजम्मू में  एक दिन  के प्रशिक्षण की  रिपोर्ट।     31.08.2017


हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा दिनांक 11 अगस्त 2017 को संस्थान के हितधारकों की एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया ।  23.08.2017  


हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला  द्वारा  दिनांक 17.06.2017 को विश्व  मरु प्रसार रोक   दिवस   का आयोजन   23.06.2017  


हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान,  शिमला में दिनांक 01.06.2017 से 15.06.2017 तक  स्वच्छता   पाखवाड़ा पर एक रिपोर्ट।    23.06.2017


हिंदी कार्यशाला का संगठन     19.06.2017


प्रशिक्षु वन गार्ड्स ऑफ वन प्रशिक्षण संस्थान और रेंजर कॉलेज, सुंदरनगर, हिमाचल प्रदेश की एचएफआरआई, शिमला यात्रा।     19.06.2017


05 जून 2017 को  हिमालयन  वन अनुसंधान संस्थान,  शिमला में विश्व पर्यावरण दिवस के उत्सव पर एक रिपोर्ट।     07.06.2017


इथियोपिया के उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल की एचएफआरआई, शिमला की यात्रा पर एक रिपोर्ट दिनांक 17 मार्च, 2017.


स्थानीय किसानों के लिए काफल का नर्सरी स्टॉक तैयार करने विषय पर हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला में प्रशिक्षण एवं प्रदर्शन कार्यक्रम का आयोजन दिनांक:27.2.2017.


हिमालयी वन वन संस्थान, शिमला में 20-21 फरवरी, 2017 को आयोजित "लनाबाका ग्राम, सिरमौर के किसानों के लिए प्राकृतिक रसीदों और जैविक खेती के स्थायी प्रबंधन के प्रति एकीकृत दृष्टिकोण" पर प्रशिक्षण कार्यक्रम पर एक रिपोर्ट .


“वानिकी में एकीकृत कीट. प्रबंधन एवं औषधीय पौधों के कीटों व बीमारियों का नियंत्रण “(16-18 फरवरी 2017) .


20 फरवरी, 2017 को एचएफआरआई, शिमला द्वारा आयोजित किसान मेला के उत्सव पर एक रिपोर्ट। .


एचएफआरआई शिमला में 12-18 फरवरी, 2017 तक राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह - 2017 के उत्सव पर एक रिपोर्ट .



निदेशक का संदेश



डॉ. वी.पी. तिवारी, निदेशक, हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला का संबोधन:
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान (हि.व.अ.सं), शिमला की वेबसाइट पर आपका स्वागत करते हुए मुझे बहुत प्रसन्नता हो रही है संस्थान, हिमाचल प्रदेश एवं जम्मू-कश्मीर की वानिकी अनुसंधान आवश्यकताओं को संबोधित करता है संस्थान को परिषद द्वारा इन कठिन क्षेत्रों में पारिस्थितिक पुन: स्थापन में उच्च अनुसंधान हेतु शीत मरुस्थल पुन:स्थापन एवं चारागाह प्रबंधन उन्नत केंद्र का दर्जा दिया गया है  अधिक »

 

Sale of Books and Bulletins