निदेशक का संदेश


 मैं आशा करता हूँ कि वेबपेज पर दी गई जानकारी जनता के लिए सहायक सिद्ध होगी  वेबसाइट के सुधार के लिए सुझाव आमंत्रित है  इस अनुसन्धान संस्थान के अधिदेश का विस्तार वानिकी अनुसंधान की आवश्यकताओं के अनुरूप किया गया, जिसमें की शीत-मरुस्थलों के खनन क्षेत्रों का पारिस्थितिक पुन:सुधार तथा शंकुधारी एवं चौड़ी पत्तियों वाले वनों का पुनर्जनन तथा सम-शीतोष्ण एवं उच्च-पर्वतीय क्षेत्रों में कीट/ पतंगों की गतिविधिओं का प्रबंधन, कृषि-वानिकी तथा अन्य गतिविधिओं को भी इसके अधिदेश में शामिल किया गया है  केंद्र को हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान के रूप में पुनर्गठित कर भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद का क्षेत्रीय अनुसंधान संस्थान बनाया गया है तथा जम्मू-कश्मीर एवं हिमाचल प्रदेश में कार्य करने का दायित्व इस संस्थान को सौंपा गया है

संस्थान द्वारा सिल्वर फर एवं स्प्रूस के कृत्रिम पुनरुत्पादन कार्य करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया गया है जिसमें की उनके बीज, नर्सरी तरीकों तथा पौधरोपण तकनीकों के अनुसंधान कार्य किए गए I अन्य उल्लेखनीय उपलब्धियों में देवदार, टैक्सस, चील, कैल तथा इनके चौड़ी पत्तियों वाले सहायक जैसे बर्डचेरी, ओक, मेपल, पॉप्लर तथा शीत मरुस्थल क्षेत्र में स्थानीय प्रजातिओं का नर्सरी एवं पौधरोपण तकनीकों का विकास सम्मिलित है संस्थान की अनुसंधान एवं प्रसार गतिविधिओं में हिमाचल प्रदेश के निम्न एवं मध्य क्षेत्रों में कृषि वानिकी मॉडल की स्थापना एवं मानकीकरण तथा खनन क्षेत्रों की आर्थिक, पारिस्थितिक पुन:उत्थान, जिसमें की उपयोगकर्ता समूहों के लिए कार्यशालाओं एवं प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करना शामिल है

हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के शीत मरुस्थल में पाई जाने वाली वनस्पति के प्रलेखीकरण के साथ नर्सरी तकनीकों के मानकीकरण पर महत्वपूर्ण कार्य किया गया I वन्य-जीव अभ्यारण्यों में वनस्पति विविधता और पशु-वनस्पति सबंधों के आकलन पर अध्ययन इस आशा से शुरू किया गया कि आने वाले समय में संस्थान इन पहलुओं पर भी योगदान देगा देवदार, शीशम, चील, कैल, सिरिस, बान और विल्लो पर कीटों से होने वाले रोगों की जाँच की गई और राज्य वन विभाग हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर को इनके उपचारात्मक उपाय सुझाए गए I शीतोष्ण क्षेत्रों के औषधीय पौधों की कृषि-तकनीकों के मानकीकरण के क्षेत्र में सफलता प्राप्त की गई इस प्रकार संस्थान, हिमाचल प्रदेश एवं जम्मू-कश्मीर के अति-संवेदनशील वन पारिस्थितिकी प्रणालियों के उत्कृष्ट सुधार में वैज्ञानिक प्रबंधन करके अपना योगदान दे रहा है

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला ने हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के शीतोष्ण, उच्च-पर्वतीय और शीत मरुस्थल क्षेत्रों के उपरोक्त अधिशेसित क्षेत्रों का वर्ष 2007 में पुनर्विचार किया और संशोधित अधिदेश इस प्रकार से है:

 

  1. महत्वपूर्ण पौध प्रजातियों का वर्तमान में प्राकृतिक पुनर्जनन स्थिति का मूल्यांकन
  2. महत्वपूर्ण पौध प्रजातियों की नर्सरी पौधरोपण एवं बीज तकनीक का विकास
  3. खनन क्षेत्र और कठिन पारिस्थितिक क्षेत्रों के पुन-स्थापन हेतु तकनीक का विकास
  4. शीत-मरुस्थल प्रजातियों का सर्वेक्षण, चयन एवं प्रमाणीकरण करना तथा महत्वपूर्ण पौधों के जैवभार उत्पादन की उपयुक्त तकनीक का विकास
  5. उच्च क्षेत्रीय चरागाहों का सर्वेक्षण एवं उत्पादन क्षमता का मूल्यांकन
  6. बीज नर्सरी पौधरोपण क्षेत्र तथा प्राकृतिक वनों के लिए सस्ते एवं पर्यावरण अनुकूल कीट एवं रोग प्रबंधन तकनीक का विकास
  7. महत्वपूर्ण और अकाष्ठ वन-उत्पादों की कृषि तकनीक का विकास एवं वनस्पति सरंक्षण का मूल्यांकन
  8. विभिन्न कृषि जलवायु क्षेत्रों के बहु-उद्देशीय पौध प्रजातियों का चयन एवं उनसे सम्बंधित जागरूकता पैदा करना, जिसमें जैव-ईंधन प्रजातियाँ भी समिल्लित है, के द्वारा आय के स्त्रोतों में बढ़ोतरी करना
  9. सम-शीतोषण पारिस्थितिक तंत्रों में भू-मंडलीय ताप के विभिन्न घटकों पर शोध एवं मूल्यांकन
  10. वनों पर निर्भर समुदायों की आजीविका बढ़ोतरी के लिए किफायती वन प्रबंधन तरीकों का चयन एवं विस्तार करना
  11. शहरी वानिकी के क्षेत्र में शोध कार्य
  12. पारिस्थितिकी एवं जैव-विविधता सरंक्षण के क्षेत्र में परामर्श परियोजनाएं, कीट सम्बन्धी समस्याएं, गैर-वन अकाष्ठ उत्पाद तथा वन-वर्धन महत्ता के विषयों पर शोध कार्य



Latest Updates


हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा जवाहर नवोदय विद्यालय, रिकोंगपिओ जिला किन्नोर हिमाचल प्रदेश में “प्रकृति : छात्र-वैज्ञानिक मिलन कार्यक्रम” का आयोजन किया गया |updated: 02.08.2019
हिमालयन  वन अनुसंधान संस्थान शिमला में मासिक संगोष्ठी का आयोजन किया गया | updated: 09.08.2019 
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा नोगली, रामपुर में सतलुज नदी बेसिन की डीपीआर तैयार करने के लिए पहली परामर्श बैठक का आयोजन किया गया |updated: 08.08.2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा जवाहर नवोदय विद्यालय, खानपुरा, जिला बड्गाम, जम्मू-कश्मीर में “प्रकृति : छात्र-वैज्ञानिक मिलन कार्यक्रम” का आयोजन किया गया |updated: 02.08.2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान शिमला में वन महोत्सव का आयोजन किया गया | updated: 31.07.2019  

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला में केंद्रीय विद्यालय, जाखू हिल्स, शिमला के विद्यार्थियो का शैक्षणिक दौरा |   updated: 05.07.2019  
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा सिंधु नदी बेसिन का वानिकी के माध्यम से पुनरुद्धार करने हेतु डी. पी. आर. बनाने हेतु विचार मंथन कार्यशाला का आयोजन क्या गया | updated: 05.07.2019
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान शिमला में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन 

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस-2019 के उपलक्ष्य मे कार्यक्रम का आयोजन  updated: 07.06.2019
उतराखंड वानिकी प्रशिक्षण अकादमी, हल्द्वानी, जिला नैनीताल, उतराखंड के प्रशिक्षु वन परिक्षेत्र अधिकारियों का हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला का दौरा  updated: 06.06.2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा स्वच्छता अभियान का आयोजन  updated: 06.06.2019
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा 'प्रकृति' कार्यक्रम के अंतर्गत जवाहर नवोदय विधालय, कोठिपूरा, जिला बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश में व्याख्यान का आयोजन  updated: 03.05.2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा स्वच्छता अभियान का आयोजन  updated: 25.04.2019
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा पृथ्वी दिवस का आयोजन  updated: 24.04.2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा स्वच्छता अभियान का आयोजन  updated: 29.03.2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा अंतर्राष्ट्रीय वन दिवस-2019 कार्यक्रम का आयोजन  updated: 20.03.2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान,शिमला द्वारा औषधीय और सुंगधित पौधों की खेती पर कृषि विज्ञान केंद्र, कठुआ, जम्मू - कश्मीर में एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्र्म का आयोजन किया गया | updated: 15.03.2019 

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा वन पौधशाला में माइकोराइजा का उपयोग और कीट एवं रोगों के प्रबंधन पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन              updated 15 मार्च  2019
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला तथा महाराजा अग्रसेन विश्वविधालय, बद्दी, सोलन के मध्य समझौता ज्ञापन   updated 11 मार्च  2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला में महिला कर्मचारियों हेतु प्रश्न मंच आयोजन  updated 06 मार्च  2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा चीड़ के वनों मे आग लगने की घटनाओं को कम करने हेतु जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन  updated 05 मार्च  2019
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा स्वच्छता अभियान का आयोजन 

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान शिमला  द्वारा "वानिकी एवं पर्यावरण" विषय पर केंद्रीय विद्यालय, बंगाना, ऊना, हिमाचल प्रदेश में जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया updated: 25 फरवरी 2019

जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर, मध्य प्रदेश के विद्यार्थियों का हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान का शैक्षणिक दौरा 12 फरवरी 2019

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा स्वच्छता अभियान का आयोजन 
Proceeding of Institute level mothly research seminar for the month of January 2019.  Updated 06.02.2019 

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा प्रकृति कार्यक्रम के अंतर्गत केंद्रीय विधालय, जतोग छावनी शिमला में जागरूकता अभियान का आयोजन 

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा प्रकृति कार्यक्रम के अंतर्गत जवाहर नवोदय विधालय, नाहन, सिरमौर में व्याख्यान का आयोजन 
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान शिमला में गणतंत्र दिवस का आयोजन

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा झारखंड राज्य में केंदू पत्ता के उत्पादन एवं राज्स्व उत्पादन की मात्रा का अध्ययन और बेहतर प्रबंधन के लिए विश्लेषण पर कार्यशाला का आयोजन किया गया

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान शिमला द्वारा खनन क्षेत्रों एवं बंजर भूमि का पारिस्थितिकी पुन:स्थापना अन्य हितधारकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्र्म की रिपोर्ट का आयोजन किया गया | 18दिसंबर 2018 
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा "प्रकृति: छात्र -वैज्ञानिक मिलन कार्यक्र्म के अंतर्गत जवाहर नवोदय विद्यालय, दियोरीघाट, ठिओग, जिला शिमला मे व्याख्यान का आयोजन किया गया | 27नवम्बर2018
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान द्वारा "प्रकृति: छात्र -वैज्ञानिक मिलन कार्यक्र्म के अंतर्गत केन्द्रीय विद्यालय, जाखू हिल्स, शिमला मे व्याख्यान का आयोजन किया गया | 22नवम्बर2018
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान में सतर्कता जागरूकता सप्ताह का आयोजन | 06 नवम्बर 2018
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान में स्वच्छता अभियान का आयोजन  02 नवम्बर 2018
उत्तराखंड वन विभाग  शोध क्षेत्र के कर्मचरियों के लिए एक सप्ताह का प्रशिक्षण कार्यक्रम

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला मे अनुसंधान सलाहकार समूह की बैठक का आयोजन।        09 अक्टूबर 2018

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा आयोजित दिनांक 08 फरवरी, 2018 को वनों की आग एवं इसका प्रबंधन विषय पर एक दिवसीय संगोष्ठी की एक रिपोर्ट।    15फरवरी2018

हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान,  शिमला द्वारा आयोजित  अतीस, बन ककड़ी, चोरा और अन्य महत्वपूर्ण समशीतोष्ण औषधीय पौधों की खेती पर  दिनांक  22 अगस्त, 2017 को  भदरवाहजम्मू में  एक दिन  के प्रशिक्षण की  रिपोर्ट।     31.08.2017


हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला द्वारा दिनांक 11 अगस्त 2017 को संस्थान के हितधारकों की एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया ।  23.08.2017  


हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला  द्वारा  दिनांक 17.06.2017 को विश्व  मरु प्रसार रोक   दिवस   का आयोजन   23.06.2017  


हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान,  शिमला में दिनांक 01.06.2017 से 15.06.2017 तक  स्वच्छता   पाखवाड़ा पर एक रिपोर्ट।    23.06.2017


हिंदी कार्यशाला का संगठन     19.06.2017


प्रशिक्षु वन गार्ड्स ऑफ वन प्रशिक्षण संस्थान और रेंजर कॉलेज, सुंदरनगर, हिमाचल प्रदेश की एचएफआरआई, शिमला यात्रा।     19.06.2017


05 जून 2017 को  हिमालयन  वन अनुसंधान संस्थान,  शिमला में विश्व पर्यावरण दिवस के उत्सव पर एक रिपोर्ट।     07.06.2017


इथियोपिया के उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल की एचएफआरआई, शिमला की यात्रा पर एक रिपोर्ट दिनांक 17 मार्च, 2017.


स्थानीय किसानों के लिए काफल का नर्सरी स्टॉक तैयार करने विषय पर हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान, शिमला में प्रशिक्षण एवं प्रदर्शन कार्यक्रम का आयोजन दिनांक:27.2.2017.


हिमालयी वन वन संस्थान, शिमला में 20-21 फरवरी, 2017 को आयोजित "लनाबाका ग्राम, सिरमौर के किसानों के लिए प्राकृतिक रसीदों और जैविक खेती के स्थायी प्रबंधन के प्रति एकीकृत दृष्टिकोण" पर प्रशिक्षण कार्यक्रम पर एक रिपोर्ट .


“वानिकी में एकीकृत कीट. प्रबंधन एवं औषधीय पौधों के कीटों व बीमारियों का नियंत्रण “(16-18 फरवरी 2017) .


20 फरवरी, 2017 को एचएफआरआई, शिमला द्वारा आयोजित किसान मेला के उत्सव पर एक रिपोर्ट। .


एचएफआरआई शिमला में 12-18 फरवरी, 2017 तक राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह - 2017 के उत्सव पर एक रिपोर्ट .



निदेशक का संदेश



ड़ा शेर सिंह सामंत,  निदेशक 
हिमालयन वन अनुसंधान संस्थान (हि.व.अ.सं), शिमला की वेबसाइट पर आपका स्वागत करते हुए मुझे बहुत प्रसन्नता हो रही है संस्थान, हिमाचल प्रदेश एवं जम्मू-कश्मीर की वानिकी अनुसंधान आवश्यकताओं को संबोधित करता है संस्थान को परिषद द्वारा इन कठिन क्षेत्रों में पारिस्थितिक पुन: स्थापन में उच्च अनुसंधान हेतु शीत मरुस्थल पुन:स्थापन एवं चारागाह प्रबंधन उन्नत केंद्र का दर्जा दिया गया है  अधिक »

 

Sale of Books and Bulletins